EverythingForCity.com  
Login Register
Login Register
Home | Entertainment | Our India | India Yellow Pages | Tools | Contact Us
Shayari | Quiz | SMS | Tongue Twister | Poem | Fact | Jokes
 
 
 
 
 
Home –› Entertainment –› Poem –›Mehangai Poems
» Mehangai Poems
Mahangai

Aaj tumhe ek aisi mai
apni byatha sunata hoon.
Suno Suno Ye duniya walo,
Dil se mai likh jata hoon.

Ek baar bola biwi se,
Chalo darling chalen bazaar,
Salary mili hai mujhko pyari,
Samaan ka banao vichar.

Suit bhi le lo, Saree bhi le lo,
Saindal le lo aididaar,
Cream-Powder, Baalon ka gajra,
Itar bhi le lo khushbudar.

Shringar ka samaan bhale hi lena,
Saath mein itna bhool na jana,
Rashan pahle kharid kar laye,
tabhi pakega ghar mein khana.

Miya biwi bazar gaye hum,
haath mein ek duje ka haath.
Duniya meri rangeen badi thi,
jab ham dono the ek saath.

Bada hi khush tha biwi ke sang,
pahli baar ye mani hai.
Suno-Suno ye duniya walo,
Lambi meri kahani hai.

Paise lekar, chaure hokar,
bazar chale seena tane.
jeb garam thi nahi sharam thi,
Ham ki ko kya jaane.

Bheed bhare bazar kisi ne,
mujhko dhakka de dala.
cream-powder ka bhav poochhne,
Dukan chali gayi woh bala.

Kisi tarah bheed se uthkar,
Peechhe uske gaya dukan.
Rashan ki list lambi aisi,
Nikal gayi meri jhoothi shaan.

Bheed mein girkar haal bura tha,
aankhen meri bhar ayi.
Haal mein aise dekh ke mujhko,
Cheeni ki bori sharmayi.

Khand bhi uchhal-uchhal ke girta,
koi le dalo mujhko.
mahangai aise badhi hai,
kaise kharidu mai tujhko.

Chaipatti awaj lagati,
jaoge mujhe chhod kaha.
Doodh ki thaili rate badhaye,
naach rahi thi yahan wahan.

Chawal kya mol atta bhi tol,
daalen naachi chhama-chham.
Tail ghee ka bhav poochha toh,
mera nikla wahan pe dam.

Mashaale kone mein garam pade the,
mere paas kab aaoge.
Namak ki thaili chundi kaate,
bin mere kaise khaoge.

Saag sabji ki baari ayi,
Aaloo pyaz tha hisse main.
aur sabjiyan aasman chhoti,
Laal tamatar gusse main.

Hosh ud gaye mere waha,
Lala ne jab bill thamaya.
Mahangai se pahle hi halat kharab thi,
ab toh jeb mein note bhi sharmaya.

Lala bole paise lao,
Rashan apne ghar le jao.
paise nahi hai toh mere bhai,
khane ke badle hawa khao.

Rashan poora hua nahi tha,
biwi bole gusse mein.
paise toh sab kharch kar diye,
kya aya mere hisse mein.

Saaree ki toh baat hi chhodo,
suite tak tumne nahi liya.
jara yeh toh batao,
meri khatir aaj tak tumne kya kiya.

Saindal chappal kuchh na mila hai,
ittar bole the khushbudaar.
tumse achha toh tumhara padosi,
Biwi ka hai sewadaar.

Madhur-madhur lala sang baatein,
mujhe khari-khoti kah dali.
mahangai ne aisa dard diya hai,
Apni hi na rahi yeh gharwali.

Aam aadmi meri tarah hai,
mahangai ka dard jhel raha hai.
Dino-din yeh aise badhti,
sir chadhke yeh bol raha hai.

Dino din mahangai badhti,
Aam admi kaise rahega.
Nahi bacha kuchha khane ko toh,
is sansaar mein kaise jiyega.

Aaj mai haath jod ke karta,
vinati fir sarkaar se,
Apni ess janta ko bachha le,
Mahangai ki maar se.



आज तुम्हे एक ऐसी मैं
अपनी व्यथा सुनाता हूँ.
सुनो सुनो ये दुनिया वालो,
दिल से मैं लिख जाता हूँ.

एक बार बोला बीवी से,
चलो डार्लिंग चलें बाज़ार,
Salary मिली है मुझको प्यारी,
सामान का बनाओ विचार.

Suit भी ले लो, साड़ी भी ले लो,
सैंडल ले लो ऐ दिदार ,
क्रीम -पाउडर , बालों का गजरा,
इत्र भी ले लो खुशबूदार.

श्रृंगार का सामान भले ही लेना,
साथ में इतना भूल न जाना,
राशन पहले खरीद कर लाये,
तभी पकेगा घर में खाना.

मिया बीवी बाज़ार गये हम,
हाथ में एक दूजे का हाथ.
दुनिया मेरी रंगीन बड़ी थी,
जब हम दोनों थे एक साथ.

बड़ा ही खुश था बीवी के संग,
पहली बार ये मानी है.
सुनो -सुनो ये दुनिया वालो,
लम्बी मेरी कहानी है.

पैसे लेकर, चौड़े होकर,
बाज़ार चले सीना ताने.
जेब गरम थी नहीं शर्म थी,
हम किसी को क्या जाने.

भीड़ भरे बाज़ार किसी ने,
मुझको धक्का दे डाला.
क्रीम -पाउडर का भाव पूछने,
दुकान चली गयी वो बाला.

किसी तरह भीड़ से उठकर,
पीछे उसके गया दुकान.
राशन की लिस्ट लम्बी ऐसी,
निकल गयी मेरी झूठी शान.

भीड़ में गिरकर हाल बुरा था,
आँखें मेरी भर आई.
हाल में ऐसे देख के मुझको,
चीनी की बोरी शरमाई.

खांड भी उछल -उछल के गिरता,
कोई ले डालो मुझको.
महंगाई ऐसे बढ़ी है,
कैसे खरीदू मैं तुझको.

चायपत्ती आवाज लगाती,
जाओगे मुझे छोड़ कहाँ.
दूध की थैली रेट बढ़ाये,
नाच रही थी यहाँ वहाँ.

चावल क्या मोल आटा भी तोल ,
डालें नाची छमा -छम.
तेल घी का भाव पूछा तो,
मेरा निकला वहाँ पे दम.

मशाले कोने में गरम पड़े थे,
मेरे पास कब आओगे.
नमक की थैली चुंडी काटे,
बिन मेरे कैसे खाओगे.

साग सब्जी की बारी आई ,
आलू प्याज़ था हिस्से में.
और सब्जियां आसमान छूती,
लाल टमाटर गुस्से में.

होश उड़ गये मेरे वहाँ,
लाला ने जब बिल थमाया.
महंगाई से पहले ही हालत ख़राब थी,
अब तो जेब में नोट भी शरमाया.

लाला बोले पैसे लाओ,
राशन अपने घर ले जाओ.
पैसे नहीं है तो मेरे भाई,
खाने के बदले हवा खाओ.

राशन पूरा हुआ नहीं था,
बीवी बोले गुस्से में.
पैसे तो सब खर्च कर दिये,
क्या आया मेरे हिस्से में.

साड़ी की तो बात ही छोड़ो,
suit तक तुमने नहीं लिया.
जरा यह तो बताओ,
मेरी खातिर आज तक तुमने क्या किया.

सैंडल, चप्पल कुछ न मिला है,
इत्र बोले थे खुशबूदार.
तुमसे अच्छा तो तुम्हारा पड़ोसी ,
बीवी का है सेवादार.

मधुर -मधुर लाला संग बातें,
मुझे खरी -खोटी कह डाली .
महंगाई ने ऐसा दर्द दिया है ,
अपनी ही न रही यह घरवाली.

आम आदमी मेरी तरह है,
महंगाई का दर्द झेल रहा है.
दिनों -दिन यह ऐसे बढ़ती,
सर चढ़के यह बोल रहा है.

दिनों दिन महंगाई बढ़ती,
आम आदमी कैसे रहेगा.
नहीं बचा कुछा खाने को तो,
इस संसार में कैसे जियेगा.

आज में हाथ जोड़ के करता,
विनती फिर सरकार से,
अपनी इस जनता को बचा ले ,
महंगाई की मार से.

Submitted By: Shiv Charan on 08 -May-2011 | View: 16970
 
Browse Poem By Category
 
 
 
Menu Left corner bottom Menu right corner bottom
 
Menu Left corner Find us On Facebook Menu right corner
Menu Left corner bottom Menu right corner bottom