EverythingForCity.com  
Login Register
Login Register
Home | Entertainment | Our India | India Yellow Pages | Tools | Contact Us
Shayari | Quiz | SMS | Tongue Twister | Poem | Fact | Jokes
 
 
 
 
 
Home –› Entertainment –› Poem –›Life Poem
» Life Poem
Raaste abhi aur bhi hai

Khwabon ki duniya sajaakar,
dhokhe bahut khaye hai.
Tabhi ek aawaaj ayi,
Soch mein ab kyon pada hai.
Jindagi ke raaste mein,
Sochna abhi aur bhi hai.
Karm ki rahon par chal le,
Raaste abhi aur bhi hai.


Dur najrein kyon gadhaye,
duniya chamakti ret si hai.
Paas jaakar dekh usko,
yeh chamak bhi khokhli hai.
Ek raasta band hua toh,
Dusra abhi aur bhi hai.
Karm ki raahon par chal le,
Raaste abhi aur bhi hai.


Kamal bhi keechad mein khilta,
dekh usko tu badal ja.
Koyale ki khan mein bhi,
heere ki talaash kar ja.
Kya hua jo na mila toh,
Ek heera aur bhi hai.
Karm ki raahon par chal le,
Raaste abhi aur bhi hai.


Unchaaiyon se khafa hai kyon,
baat chal le ye batohi.
Tu nigaahein yun gadha le,
Najar aaye rah teri.
Doraha pe khada toh kya,
ek raasta aur bhi hai.
Karm ki raahon par chal le,
Raaste abhi aur bhi hai.


Jindagi ke mod tedhe,
chal sambhalkar ye batohi.
Karm karke raah banaa le,
yeh raah aasaan hogi.
Le shapath tu aaj se hi,
karm hi teri jindagi hai.
Karm ki raahon par chal le,
raaste abhi aur bhi hai.


Kyon bhatakta man hai tera,
khwaabon ke aansu kyon chhalakte.
Iss duniya se bahar aakar,
ek duniya fir basaa le.
Ek Akela tu nahi hai,
duniya mein kayi aur bhi hai.
Karm ki raahon par chal le,
raaste abhi aur bhi hai.



ख्वाबों की दुनिया सजाकर,
धोखे बहुत खाये हैं.
तभी एक आवाज आई,
सोच में अब क्यों पड़ा है.
जिंदगी के रास्ते में,
सोचना अभी और भी है.
कर्म की राहों पर चल ले,
रास्ते अभी और भी हैं.


दूर नजरें क्यों गड़ाये ,
दुनिया चमकती रेत सी है.
पास जाकर देख उसको,
यह चमक भी खोखली है.
एक रास्ता बंद हुआ तो,
दूसरा अभी और भी है.
कर्म की राहों पर चल ले,
रास्ते अभी और भी है.


कमल भी कीचड़ में खिलता,
देख उसको तू बदल जा.
कोयले की खान में भी,
हीरे की तलाश कर जा.
क्या हुआ जो न मिला तो,
एक हीरा और भी है.
कर्म की राहों पर चल ले,
रास्ते अभी और भी है.


ऊँचाइयों से खफा है क्यों,
बाट चल ले ये बटोही.
तू निगाहें यूँ गड़ा ले,
नजर आये राह तेरी.
दोराहा पे खड़ा तो क्या,
एक रास्ता और भी है.
कर्म की राहों पर चल ले ,
रास्ते अभी और भी है.


जिंदगी के मोड़ टेढ़े,
चल संभलकर ये बटोही .
कर्म करके राह बना ले,
यह राह आसान होगी.
ले शपथ तू आज से ही,
कर्म ही तेरी जिंदगी है.
कर्म की राहों पर चल ले,
रास्ते अभी और भी है.


क्यों भटकता मन है तेरा,
ख़्वाबों के आंसू क्यों छलकते.
इस दुनिया से बाहर आकर,
एक दुनिया फिर बसा ले.
एक अकेला तू नहीं है,
दुनिया में कई और भी है.
कर्म की राहों पर चल ले,
रास्ते अभी और भी है.

Submitted By: Shiv Charan on 17 -May-2011 | View: 8529
 
Related poem:
Browse Poem By Category
 
 
 
Menu Left corner bottom Menu right corner bottom
 
Menu Left corner Find us On Facebook Menu right corner
Menu Left corner bottom Menu right corner bottom