EverythingForCity.com  
Login Register
Login Register
Home | Entertainment | Our India | India Yellow Pages | Tools | Contact Us
Shayari | Quiz | SMS | Tongue Twister | Poem | Fact | Jokes
 
 
 
 
 
Home –› Entertainment –› Poem –›Nature Poem
» Nature Poem
स्वच्छ भारत

सुबह-सुबह जब आँख खुली तो,
चर्चा थी गलियारे में ।
चलो भारत को स्वच्छ बनायें,
सभी चलो पखवाड़े में ।

हर इंसां हाथ में झाड़ू लेकर,
नारे गाकर चलता है ।
गन्दगी मिटाओ देश की सारी ,
अभियान सफाई चलता है ।

सफाई से बढ़कर काम नहीं है,
हर इंसान के जीवन में ।
स्वच्छ रहेगा भारत फिर तो,
न रोग किसी के दामन में ।

तन निर्मल मन होगा निर्मल,
तब देश विमल हो जायेगा ।
हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई,
भाईचारा अपनाएगा ।

रोग नाम की चीज न होगी,
जन-जन को स्वस्थ बनाना है ।
हर व्यक्ति कर्म करे जब ऐसा,
भारत को स्वच्छ बनाना है ।

जन-जन सफाई शुरू करे तो,
अभियान ये सफल बनाना है।
स्वच्छ रहेगा देश अगर,
भारत को ऊँचा उठाना है ।
भारत को स्वच्छ बनाना है ।

Submitted By: Shiv Charan on 08 -Sep-2017 | View: 77

Help in transliteration

 
Related poem:
Browse Poem By Category
 
 
 
Menu Left corner bottom Menu right corner bottom
 
Menu Left corner Find us On Facebook Menu right corner
Menu Left corner bottom Menu right corner bottom